Sunday, 27 February, 2011

सौ बहाने ,सौ अफसाने

बेशक, शहर की
चर्चाओं में
तेरे-मेरे
सौ अफसाने हैं,
पर मिलने
के
भी

तो

मेरी जां
सौ बहाने हैं

No comments: