Friday 27 May 2011

सी एम भूल गए गंगानगर को

रीगंगानगर --हैलो! कौन? उधर से आवाज आई। गंगानगर से ......... । गंगानगर से। अजी साहब, क्या शहर है! क्या लोग है! अधिकारियों की खूब मौज रहती है..... । सीएमओ में फोन अटेण्ड करने वाला शायद और भी कुछ कहता। मगर हमें तो सीएम से बात करनी थी। सीएम साहब से बात करनी है। अधिकारी कहने लगा, क्यों नहीं! अभी करवाते हैं। गंगानगर ने तो ज़िंदगी बदल दी। क्या नहीं मिला? लो करो बात। हैलो! उधर से अशोक गहलोत की आवाज सुनाई दी। साहब मैं गंगानगर से बोल रहा हूं । गंगानगर! ये कहां है? अरे सर, आप गंगानगर को नहीं जानते! नाम तो सुना सुना सा लगता है। साहब वही गंगानगर जिसके कलेक्टर को आपने यह कहा था कि यहाँ करप्शन सबसे अधिक है। मैंने कहा था? याद नहीं आया, सीएम बोले। सर, राधेश्याम गंगानगर वाला गंगानगर। जिसने आपकी सरकार को पोंपा बाई का राज कहा था। फिर आपने उसको मंत्री बना दिया था। अच्छा! सीएम कहने लगे। कमाल है! ये सब कब हुआ? सर, मैं आपको बताता हूं। वही गंगानगर जिस जिले से आपके सभी उम्मीदवार 2003 मे बड़े अंतर से हारे थे। 2003 में भी आपकी पार्टी कोई बड़ा तीर नहीं मार सकी थी। कुछ देर सन्नाटा। फिर आवाज आई। ...अरे भाई कोई और पहचान बताओ। गंगानगर कौनसा हुआ, समझ नहीं आ रहा। सीएम साहब, वही गंगानगर जिस जिले से गुरमीत सिंह कुनर मंत्री हैं। कुनर जी। वे तो श्रीकरनपुर से हैं। कमाल हो गया। आपने इतना बताया फिर भी गंगानगर को पहचान नहीं पा रहा। मैंने अंतिम कोशिश की। सर, आपको कैसे बताऊँ? ............चलो कोई बात नहीं। मैं दिखवा लेता हूँ कि गंगानगर क्या है,और कहां है। आप बताओ क्या कहना है। सर, गंगानगर जिला मुख्यालय पर कई माह से कई अधिकारियों के पद खाली पड़े हैं। कानून व्यवस्था का बुरा हाल है। जनता बहुत अधिक परेशान हैं। आप कुछ करो........ । बस यही बात थी क्या? मैं पता करवाता हूं। अगर मुझे जानकारी हो गई कि गंगानगर कहां है तो जरूर इस तरफ ध्यान दूंगा। लेकिन समझ नहीं आ रहा कि आखिर ये गंगानगर कौनसा हुआ? अरे भाई,कहीं ऐसा तो नहीं कि आपसे कोई रोंग नंबर लग गया हो। मैंने कहा, नहीं साहब, मैंने राजस्थान के सीएमओ का ही नंबर मिलाया था। वही मिला और मैं राजस्थान के सीएम से ही बात कर रहा हूं! ... हां, बोल तो मैं राजस्थान का सीएम ही रहा हूं। लेकिन ये गंगानगर कहां है याद नहीं आ रहा। चलो मैं देखता हूं। यह कह कर उन्होने फोन रख दिया।


Friday 20 May 2011

....आजा के अधूरा है अपना मिलन।!

श्रीगंगानगर—“कई जन्मों से,कई सदियों से तेरे प्यार को तरसे मेरा मन.....आ जा ,आजा के अधूरा है अपना मिलन..।“मधुर गीत की अपने प्रेमी को पुकारती ये पंक्तियाँ, कानों से होते हुए दिल तक पहुंच कर तन मन की तड़फ बढ़ा देती है। आज ये पंक्तियाँ वियोगिनी,एकाकिनी,विरहन वसुंधरा के मुख से फूट रहीं हैं। वह कह रही है , कई वर्षों से अधूरा है अपना मिलन। वसुधा,सुरभि,धरा का डायरेक्ट मिलन न तो आसमान से है ना मेघों से। हां,मतंग अपने स्नेह की वर्षा से इस धरती की प्यास बुझाकर इसकी वियोगानल को ठंडा करते रहें हैं। परंतु कई सालों से इस इलाके की पृथ्वी विलगाव,विछोह,वियोग और विरह वेदना की पीड़ा झेल रही है। उसका रॉम रॉम तड़फ रहा है। भभक रहा है। तन मन झुलस रहा है प्रियतम से मिलन को। प्रीतम भी कैसा, जो उससे बरसात के रूप में आलिंगनबद्ध होकर उसको तृप्त करता है। इन शब्दों के मर्म को वही ठीक से समझ सकता है जिसने प्रीत का संग किया हो। प्रीत गुरु,ईश्वर,पत्नी, बच्चे,माता,बहिन,मित्र, प्रेयसी ...किसी से भी हो सकती है। आज हमारी वसुंधरा की प्रीत है बादलों से। जो उससे वर्षा के रूप मे मिलन कर,सब कुछ अपनी प्रेयसी को अर्पित कर,खाली होकर लौट जाते हैं। अर्पण,समर्पण,और लुटना प्रेम की पहली और अंतिम अलिखित,अघोषित शर्त है। आज वसुंधरा अनुरागी है वर्षाधरों की। मौका मिलता है चौमासे में। किन्तु कई साल से ऐसा नहीं हो सका। मेघ अपने प्रियतमा को तृप्त नहीं कर सके। धरा छकी नहीं। अमिलन ,विलगाव उसे हर पल जलाता और तड़फाता रहा। आग बढ़ती रही। मेघ लापरवाह रहे। इस बार वसुंधरा की कसक,जुस्तजू इस कदर बलवती हुई कि मेघों ने अपना प्यार उस पर उड़ेलना शुरू कर दिया। परंतु जुदाई के दावानल से पीड़ित धरा के तन मन पर बरसात गरम तवे पर चंद बूंद साबित हुई। परिणामस्वरूप विरह की आग और भड़क गई। मिलन की लालसा,इच्छा,आकांक्षा अधिक तीव्र हो गई। बदरा ने फिर बरसात कर धरती को सहलाया। पर यह क्या! आग बढ़ती गई। बादल बरसते रहे। काले घने मेघ एक बार नहीं अनेक बार झोली भरकर आए और सब कुछ धरती पर बरसा कर चले गए। प्यासी वसुंधरा की प्यास और बढ़ गई। तड़फ गहरी हो गई। उसके तन मन से तपत के भभाके उठने लगे। उसका मन अभी भी बरसात रूपी सेतु के माध्यम से अपने प्रिय से मिलने को आतुर है। लालायित है। क्योंकि वर्षों से पूरी वर्षा का इंतजार कर रही धरती को मामूली बरसात तो सुखानुभूति प्रदान नहीं कर सकती। यही वजह है कि बरसात दर बरसात उमस और गर्मी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। जीव जंतुओं के लिए जिसका नाम उमस है वह प्रेम की भाषा मे तड़फ है, आग है। अपने प्रेमी से मिलने की। मतलब यह की अभी धरती की प्यास बुझी नहीं है।वह बारास्ता वर्षा,बादलों से कई बार और मिलन का अनुराग दिल मे लिए है। उसे उम्मीद है कि काले मेघ आएंगे और उसकी आसक्ति को समझ कर अपना तमाम प्यार उसपर उड़ेलकर उसे शीतलता प्रदान कर देंगे। धरती से बादलों का मिलन जरूरी है। जिस से उसकी विरह वेदना पर कुछ माह के लिए विराम लग जाए और वह प्रीतम से मिलन की खुशी में आह्लादित होकर नाचने लगे।

Wednesday 11 May 2011

मिट्टी हुई गौरवान्वित सेना से


सेना के युद्धाभ्यास से राजस्थान का रेगिस्तान गौरवान्वित हो गया। अपने देश की सेना का युद्ध कौशल देख रेगिस्तानी मिट्टी का कण कण उत्साहित है। वह अपने सैनिकों का माथा चूम रहा है। माथे पर तिलक लगा रहा है। हजारों सैनिक इस रेगिस्तानी मिट्टी तो अपने पैरो से रोंद रहे है। मगर मिट्टी है कि इसको अपना अहोभाग जान हर सैनिक के चरण स्पर्श कर रही है। क्योंकि जो मिट्टी आज वहाँ है उसको फिर मौका नहीं मिलेगा अपने इन जांबाजों के चरण छूने का। उसे तो उड़ जाना है। आँधी बनकर। मीडिया इस अभ्यास से रेगिस्तान के थर्राने की बात करता है। कोई थर्राए तो तब ना जब कोई दुश्मन हो। यहाँ तो अपनी सेना अपना क्षमता दिखा रही है। बता रही है, चिंता मत करो, किसी से मत डरो। सेना देश की सुरक्षा बहुत अच्छी तरह से कर सकती है। तो फिर यह थर्राने की नहीं गौरवान्वित होने की बात है। आओ रेगिस्तान की मिट्टी के साथ हमभी गर्व करे अपनी सेना पर। उनको बधाई दें,उनके रण कौशल के लिए। जयहिंद ।

Monday 9 May 2011

भारतीय सेना का अभ्यास


JODHPUR: 09 MAY 2011

Exercise ‘VIJAYEE BHAVA’ (BLESSED TO WIN), the first amongst a series of Western Command routine annual summer exercises is underway in the South Western Sector. The manoeuvres are being conducted in North Rajasthan to test the operational & transformational effectiveness of the Ambala based Kharga Corps as also validate new concepts which have emerged during the transformation studies undertaken by the Army. The Pivot Corps manoeuvres are scheduled to take place later this month. The Command HQ synergises the operations of the Pivot and Strike Corps.

This Exercise envisages sustained massed mechanized manoeuvres, in a simulated environment, by composite combat entities, ably supported by air and complemented by a wide array of weapon systems and enabling combat logistics.

The Indian Army, which is working towards a ‘capability based approach’, has embarked on a series of transformational initiatives spanning concepts, organisational structures and absorption of new age technologies, particularly in the fields of precision munitions, advance surveillance systems , space and network-centricity. These will be fielded and trial evaluated by nominated test bed formations and units participating in the exercise. The thrust of the transformational initiative is for the Army to emerge as a modern, lean , agile and enabled force.

While, the acquisition of hi-tech weaponry and combat support systems is an essential pre-requisite for a capability based approach, honing of human skills to harness technological advancements in military hardware is a never ending challenge. During the conduct of the exercise, combat decisions taken at each level of command will be analysed for their ability to synergise the application of state-of-the-art weapon platforms, to achieve optimum results. Such routine exercises with troops are conducted during the training cycles of formations.

Friday 6 May 2011

किसानों को मुफ्त मिलेंगे गवार के बीज



श्रीगंगानगर -शत प्रतिशत निर्यातक इकाई विकास डब्लयू एसपी लिमिटेड किसानों को ग्वार की फसल के लिए बीज निःशुल्क उपलब्ध करवाएगी। यह जानकारी कंपनी के प्रबंध निदेशक बी डी अग्रवाल ने दी। उन्होंने बताया कि किसानों की आर्थिक स्थिति सुधारने ,ग्वार की उन्नत किस्म की फसल को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय द्वारा उत्पादित ग्वार के बीज किसानों को मुफ्त दिए जायेंगे। इसके लिए बीज वितरण समारोह १५ मई को सुबह ८.३० बजे उद्योग विहार श्रीगंगानगर स्थित कंपनी परिसर में आयोजित होगा। श्री अग्रवाल के अनुसार समारोह के विशिष्ट अतिथि वाल्टर व्हाइट [ वाईस प्रेसिडेंट इकोनोमी पालिमर्स एंड कैमिकल्स अमेरिका] होंगे। अध्यक्षता बीकानेर के सांसद अर्जुन मेघवाल करेंगे। श्री अग्रवाल ने बताया कि जो किसान बढ़िया किस्म के बीज लेने के इच्छुक हों ,वे ८ से १० मई तक कंपनी के नई धान मंडी श्रीगंगानगर में दुकान नम्बर १२९ में स्थित ऑफिस से टोकन ले सकते हैं। समारोह में २०११ के लिए ग्वार के न्यूनतम समर्थन मूल्य के बारे में विचार विमर्श होगा। इसी मौके पर किसान सेवा केंद्र प्रयोगशाला का शिलान्यास भी किया जायेगा। बी डी अग्रवाल लम्बे समय से किसानों के हितेषी बनकर उभरे हैं। वे कृषि उपज मंडी समिति में एक प्रयोगशाला की स्थापना करने की कोशिश में भी लागे हैं। ताकि किसानों को उसका लाभ मिल सके। इसके लिए उन्होंने सरकार को आवेदन भी कर रखा है।

Thursday 5 May 2011

दरकते रिशों की कहानी

श्रीगंगानगर—“मेरी नेल पालिश कहाँ है? मेरा मेकअप का सामान दो। रज़ाई का एक गिलाफ भी कम है। सूट........... । ये शब्द एक विवाहिता के हैं। जो ससुराल मे अपनी माँ के साथ अपना सामान वापिस लेने आई है। क्योंकि कुछ सप्ताह बाद ही पति से उसक अलगाव हो गया । आज पंचायत ने दोनों पक्षों को उनका सोना,नकदी,सामान का निपटारा किया था। लेकिन लड़की उक्त वस्तुओं के लिए अड़ गई। चिंतन की बात है कि जहां तू दुल्हन बन कर आई। वहाँ तू दुल्हन रह ही नहीं सकी या वो रख नहीं सके। तो नेल पालिश …….. मिले ना मिले क्या हो जाएगा।

लड़का लड़की के परिवारों ने ठाठ से शादी की। पाँच छह महीने मे ही दोनों ऊब गए। पंचायत बैठी। दोनों को अलग अलग कर दिया। तलाक होने तक सामान की ज़िम्मेदारी पंचायती के हवाले कर दी। बच्चे ऐसे हो गए जैसे शादी हुई ही नहीं । चेहरे से मुस्कुराहट जाती रही।

शादी को अभी एक पखवाड़ा भी नहीं हुआ था कि दुल्हन ने पति की कमाई पर हक जताना शुरू कर दिया। एक ही डिमांड , वेतन उसके हाथ मे आना चाहिए। क्योंकि उसके माता पिता मोबाइल पर हर रोज उसको यही शिक्षा देते हैं। रिश्ते वह नहीं रहे जैस होने चाहिए।

वकीलों से मिलो। पंचायती लोगों से बात करो। ऐसे कितने ही सच्चे किस्से घर घर की कहानी बने हुए है। कोई जल्दी निपट जाता है,कोई लटकते रहते हैं। स्थिति दिनो दिन विकट हो रही है। किसी का घर खुल गया। किसी ने इज्जत की खातिर ढ़क रखा है। लेकिन कब तक। लड़के वाले अधिक मुश्किल मे है। क्योंकि थाना,कोर्ट सब लड़की वालों के साथ है। कानून ही ऐसा है। लड़की ने कुछ कर लिया तो टंग गए लड़के वाले तो। बेचारे डरते ही रहते हैं।

शादी से पहले, लड़का-लड़की के परिवार एक दूसरे के बारे मे सब कुछ नहीं तो बहुत कुछ पता करते,करवाते हैं। तब दोनों मे कोई कमी नहीं दिखती। आदर्श परिवार संबंधी बन जाते हैं। नव विवाहित जोड़े मे विचारों की भिन्नता होते ही सब गुड गोबर। जो आदर्श परिवार थे वही एक दूसरे के लिए समाज मे सबसे घटिया हो जाते हैं। शुरू मे जोड़े को आपस मे एडजस्ट होने मे कुछ समय लगता है। तब किसी ना किसी ना किसी बात पर, या बे बात पर खटपट, झिकझिक,बोलचाल,रिश्तों मे खिंचाव हो जाता है। उस समय लड़का,लड़की के परिवार वाले बड़प्पन दिखाएँ तो कुछ दिनो मे ही सब ठीक हो सकता है। ऐसा ना हो कि लड़की की माँ घंटो बात करे मोबाइल पर अपनी बेटी से। जिस घर मे लड़की माँ,मौसी,दीदी,बहनोई का दखल हुआ समझो रिश्तों की गर्माहट कम होना तय है। ननद ने अधिक हाथ पैर मारे तो भी समझो ठीक नहीं। आज केवल एक एसएमएसज़िंदगी की उलझने शरारतों को कम कर देती है, लोग समझते हैं कि हम बहुत बदल गए हैं।

Tuesday 3 May 2011

तोतों के सहभोज के बीच एक कप चाय का आनंद

श्रीगंगानगरविनाबा बस्ती मे,सिंधियों के मंदिर के थोड़ा आगे। सुबह एक घर के सामने टांय टांय करते तोतों को देख हैरत हो सकती है। कई दर्जन तोते एक साथ। हमें नहीं बताया गया होता तो हमें भी हैरानी होती। परंतु हम तो आए ही इसलिए थे की उन तोतों को देख सकें। जिस मकान के सामने तोते आए थे वह है आयकर अधिकारी अशोक किंगर का। किंगर दंपती चबूतरे पर बैठे थे ओर तोते ले रहे थे अपना दाना पानी। किंगर दंपती सुबह सुबह सबसे पहले इन तोतों से ही मिलते हैं। साढ़े पाँच बजे तोतों के लिए मूँगफली के दाने रख दिये जाते हैं। तोते आ चुके हैं। पहले एक तोता आएगा। दाना चुगेगा। बिजली की तार पर जा बैठेगा। उसके बाद भीड़ मे से आठ आठ,दस-दस तोते बारी बारी से आते हैं। चुग्गा लेते हैं। जा बैठते हैं। कोई हाय तौबा नहीं। लड़ाई नहीं। लगभग एक घंटे तक तोतों का यह सह भोज चलता है। किंगर दंपती अपनी दिनचर्या मे व्यस्त हो जाते हैं और तोते उड़ जाते हैं कल फिर आने के लिए। यह कर्म लंबे समय से चल रहा है। किसी समय अशोक किंगर कबूतरों के लिए ज्वार डालने जाया करते थे। जहां जाते थे वहाँ कुछ मनमाफिक नहीं लगा तो घर की चारदीवारी पर इंतजाम किया। एक दिन किसी ने मूँगफली के दानों के बारे मे बताया। वहाँ रखे। कई दिन तो पाँच सात तोते ही आए। फिर इनकी संख्या बढ़ती चली गई। अब तो कभी कभी सौ तोते भी वहाँ दिखाई पड़ जाते हैं। जब किंगर दंपती यहाँ नहीं होते तो तोतों के भोजन की ज़िम्मेदारी किसी को सौंप का जाते हैं। एक बार शुरू हुआ यह सिलसिला जारी है। संभव है आईटीओ के रूप मे श्री किंगर की पहचान कुछ अलग प्रकार की हो परंतु पक्षियों के प्रति ऐसा प्रेम बहुत कम देखने को मिलता है। श्रीगंगानगर मे जहां जहां पक्षियों के लिए ज्वार,बाजरा डाला जाता है वहाँ इतनी संख्या में कोई पक्षी दिखाई नहीं दिया। एक घर मे इतनी संख्या मे तोतों का आना बहुत बड़ी बात है। ऐसा ही दृश्य मरघट मे देखने को मिला था। सुबह और दोपहर के बीच का समय था। किसी के अंतिम संस्कार मे शामिल होने गया था। एक आदमी छोटा सा थैला लेकर छत पर गया। पीछे मैं भी। उसके छत पर पहुँचते ही बड़ी संख्या मे कौए वहाँ मंडराने लगे। उसने थैले मे रोटी निकाली और कौए को डाली । कुछ ही क्षणों मे वहाँ और कौए आ गए। काफी देर तक वहाँ कौए भोजन करते रहे। ये दोनों कभी किसी अखबार मे नहीं गए अपनी खबर छपवाने। उनको तो यह पढ़कर मालूम होगा कि हमारे तोतों,कौए की खबर आई है। पहले एक शेर फिर एसएमएस। आ मेरे यार फिर इक बार गले लग जा,फिर कभी देखेंगे क्या लेना है क्या देना है। राजेश अरोड़ा का एसएमएसअध्यापकहिन्दी की पहली साइलेंट फिल्म

Monday 2 May 2011

खुश हो गए
ओबामा ,
मार दिया
ओसामा।


अमेरिका ने अपने दुश्मन को पाकिस्तान के अन्दर घुस कर माराइसे कहते हैं देश के दुश्मन का खातमाआज अमेरिका के दिल में ठंडक पड़ गईअमेरिका की आन,बान,शान की किरकिरी करने वाला ओसामा कई साल तक अमेरिका में ना होकर भी उसकी छाती पर मूंग दलता रहाआखिर उसे अपने दुश्मन अंत करने में कामयाबी मिल गईपाकिस्तान की इतनी हिम्मत नहीं कि वह अमेरिका को अपने घर आने से रोक सकताख़बरें तो ये कहती हैं कि ओसामा बिन लादेन के शव को समुन्द्र में दफना दिया गयाऐसा इसलिए किया ताकि उसके जनाजे के समय कोई खून खराबा ना होकहीं जमीन पर दफनाया जाता तो उसकी कोई दरगाह, मजार बना दी जाती जो तमाम उम्र अमेरिका की आँख में रड़कतीअमेरिका ने इसे जड़ से ही समाप्त कर दियाअमेरिका की बहादुरी को तो सलाम करना ही पड़ेगा