Tuesday 21 October 2008

भ्रष्टाचार की रेल

--- चुटकी----

राजनीति तो है
अब पैसों का खेल,
ऐसे में कौन रोकेगा
भ्रष्टाचार की रेल।

---गोविन्द गोयल

No comments: