Thursday 23 October 2008

साजन जैसे हरजाई है

साजन जैसे हरजाई है
सावन के काले बादल,
रो रो कर यूँ बिखर गया
नैनों का सारा काजल।
----
यादों की तरह छा जाते हैं
मानसून के मेघ,
काँटों जैसी लगती है
हाय फूलों की सेज।
----
हिवड़ा मेरा झुलस रहा
ना जावे दिल से याद,
सब कुछ मिटने वाला है
जो नहीं सुनी फरियाद।
-----
नींद उड़ गई रातों की
उड़ गया दिन का चैन,
बादल तो बरसे नहीं
बरसत हैं मेरे नैन।
----
गोविन्द गोयल

No comments: