Saturday 5 March 2011

अपना लगे शैतान

अन्दर से डर जाता हूँ
देख भला इन्सान ,
अपना सा लगने लगा
जो बैरी था शैतान।
----
यही सोच कर सबके सब
होते हैं परेशान,
भ्रष्टाचार का कोई किस्सा
अब करता नहीं हैरान।
----
गली गली में बिक रहा
राजा का ईमान ,
सारी उम्मीदें टूट गईं
राज करें बेईमान।


No comments: