Sunday, 25 April, 2010

ओ...तेरी की

----चुटकी----

अगर
ललित मोदी थे
इतने ज्यादा
ख़राब,
तो अभी तक
आप
चुप्प क्यों थे
जनाब।

2 comments:

Apanatva said...

kya baat hai?

सूफ़ी आशीष/ ਸੂਫ਼ੀ ਆਸ਼ੀਸ਼ said...

Sach mein.....
O teri kee!!!
RAAZ KO RAAZ REHNE DO.......