Wednesday 5 November 2008

जड़ हुए मील के पत्थर

जड़ हुए मील के पत्थर ये सही है लेकिन
चलने वालों को वो मंजिल का पता देतें हैं।
----
ये अलग बात है ना माने उन्हें आज के बच्चे
पर बुजुर्ग की दुआओं का असर आज भी है
----
कुछ तो आधार हो विश्वास करने का तेरा
बारिशों को भी घटाओं की जरुरत होती है।
----
तू गया था मेरे घर से मेरे दिल से तो नही
क्या तुझे भी बुलावे की जरुरत होती है।

No comments: