Monday 3 November 2008

खवाब बेहतर है हकीकत से

ख्वाब बेहतर है हकीकत से
शर्त ये है की नींद न टूटे।
-----
सियासत की अपनी अलग एक जुबां है
लिखा हो जो इकरार तो इंकार पढ़ना।
----
बस्ती बस्ती भय के साये
कहाँ मुसाफिर रात बिताये।
----
जो काँटों के पथ पर आया
फूलों का उपहार उसी को
जिसने मरना सीख लिया
जीने का अधिकार उसी को।
----
चाह गई चिंता मिटी मनवा बेपरवाह
जिसको कुछ न चाहिए वही शहंशाह।

1 comment:

Web Media said...

Aapki Baat To Chhote Teer Ghav Ghambhir Ko Charitaarth Karte Hain.