Wednesday 7 September 2011

जब अपने आप नहीं गिरा तो प्रशासन ने गिराया मकान

श्रीगंगानगर-कई घंटे के इंतजार के बावजूद जब क्षतिग्रस्त दो मंजिला मकान नहीं गिरा तो प्रशासन ने उसको गिरा दिया। ऐसा इसलिए करना पड़ा ताकि कोई हादसा ना हो। एस एस बी रोड पर शिव मंदिर के सामने छोटे साइज के मकान का एक हिस्सा थोड़ा धंस गया। इससे मकान एक तरफ को झुक गया। मौके पर लोगों की भीड़ लग गई। पुलिस भी आ गई। उसने ऊपर रहने वाले परिवार से मकान खाली करवा लिया। फिर इन्तजार होनेलगा उसके गिरने का। पत्रकार पहुँच गए उसकी लाइव तस्वीर लेने के लिए। मगर मकान नहीं गिरा। प्रशासन मौके पर पहुँच चुका था। इन्तजार जारी रहा। जब मकान नहीं गिरा तो प्रशासन ने अपनी मशीनरी लगा उस मकान को गिरा दिया। यह काम नगर विकास न्यास ने किया। क्योंकि यह मकान उसी के क्षेत्र में था। न्यास के कार्यवाहक सचिव हितेश कुमार ने बताया कि मकान के निर्माण की ना तो कोई मंजूरी थी। ना ही कोई नक्शा पास था। मकान कृषि भूमि पर बना हुआ था। न्यास ने साथ वाले मकान मालिक को भी नोटिस दिया है। मकान के इस प्रकार धंसने का सही कारण क्या है कहना मुश्किल है। मकान गंदे नाले के एक दम किनारे पर था। संभव है बरसात के कारण नींव में पानी जाने के कारण ऐसा हुआ हो। इसके अलावा साथ में जो मकान बन रहा है उसका निर्माण भी एक कारण हो सकता है। जिस मकान को गिराया गया है वह सब्जी बेचने वाले गिरधारी लाल का है। मकान अपने आप गिरता तो कुछ और नुकसान की आशंका थी। बड़े हादसे को टालने के लिए मकान को गिराया गया। प्रशासन के अनुसार शहर में लगातार हो रही बरसात से कई मकाओं को क्षति पहुंची है।

No comments: