Monday 8 February 2010

तू उदास मत होना

पतझड़ में
पेड़ से गिरते
पत्तों को देख
तू उदास मत होना,
ये तो
बहार आने को है
ये सन्देश
देने को निकले हैं।

5 comments:

boletobindas said...

वाह नारदमुनिजी ....कार्टुन करोड़ो लोगो की भावनाओं का सही चित्रण है..

Several tips said...

Your blog is good.

Apanatva said...

ye huee na sakaratmak soch....
bahut acchee lagee ye kavita......pahalee var hee ise blog par aana hua bahut accha laga.........

Kaviraaj said...

बहुत अच्छा ।

अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानियां, नाटक मुफ्त डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर से डाउनलोड करें । इसका पता है:

http://Kitabghar.tk

Susheel Kumar Bhardwaj said...

Your blog is the nice
susheel kumar bhardwaj