Sunday 24 January 2010

पाकिस्तानी माल

----चुटकी----

क्रिकेट की मंडी में
नहीं बिका
पाकिस्तानी माल,
ये कूटनीति है
या कुदरत का
कोई कमाल।

3 comments:

गिरिजेश राव said...

भावना+पैसा+व्यापार बुद्धि - बहुत घातक कॉम्बिनेशन है !

divy karni rajpurohit said...

bahut badiya racha hae apane

rahul pandit:samb shankar sarvda said...

vah vah