Wednesday, 27 June, 2012

आगे बढ़ती हो
हाथ बढ़ाती हो
झिझकती हो
लौट जाती हो
हर बार,बार बार

No comments: