Tuesday 16 June 2009

श्रीगंगानगर के नए कलेक्टर




श्रीगंगानगर को नया जिला कलेक्टर मिल गया। लंबे इंतजार के बाद आशुतोष एटी पेडणेकर श्रीगंगानगर में जिला कलेक्टर नियुक्त किए गए। उन्होंने कार्य संभालने के कुछ घंटे बाद ही प्रेस कांफ्रेंस की। लंबे समय के बाद ये पहले कलेक्टर हैं जिन्होंने मीडिया को बुलाया। इस से पहले कितने ही कलेक्टर आए चले गए,कभी प्रेस कांफ्रेंस नहीं की। ऐसा नहीं कि मीडिया से नहीं मिलोगे तो कलक्टरी नहीं होगी। वह तो होगी ही। लेकिन मीडिया प्रशासन और पब्लिक के बीच की कड़ी तो है ही। मीडिया में भी चाहे कितनी ही कमियां आ गईं हों, इसके बावजूद पब्लिक अब भी मीडिया पर विश्वास तो करती ही है। ऐसी जगह, जहाँ एक दर्जन दैनिक अखबार निकलते हों, वहां का मीडिया कुछ तो अवश्य होता होगा।
नए कलेक्टर ने अपनी बात कही। अपनी और सरकार की प्राथमिकताएं बताई। साथ में कहा कि रिजल्ट तुंरत देखने को मिलेंगें। श्री आशुतोष ने आने से पहले गूगल सर्च में श्रीगंगानगर के बारे में जाना,नगर का नक्शा देखा। नगर की तारीफ की। किंतु उनको ये नहीं मालूम कि श्रीगंगानगर के लोगों का स्वभावबिल्कुल अलग किस्म का है। यहाँ तो, जो जनता का हो गया वह सब कुछ पा जाता है। हेकड़ी में रहकर, केवल दफ्तर में बैठ कर कलक्टरी करने वाला यहाँ अधिक पापुलर नहीं होता। हाँ, यह तो सम्भव है कि बड़े अख़बार के संपादक उनके आजू बाजू बैठकर उनकी शान में कशीदे पढ़ें, उनको शब्दों के अलंकरण भेंट करें,उनकी बड़ी बड़ी फोटो छपकर अख़बार दिखाएँ। किंतु असली कलेक्टरी तो वह होगी जिसमे जनता को कुछ राहत मिलेगी,जनता बिना किसी टेंशन के रहेगी,उनको लगेगा कि यह कलेक्टर तो हमारे लिए ही है। फिलहाल गुड लक टू न्यू कलेक्टर। इस उम्मीद के साथ कि कुछ होगा। जैसे मीडिया को बुलाकर नई शुरुआत की।

No comments: