Monday, 5 July, 2010

मां का आँचल

--------------
मां के आँचल
में सोने का सुख
अगली पीढ़ी
नहीं ले पायेगी,
क्योंकि
जींस पहनने वाली
मां आँचल
कहाँ से लाएगी।

मेरे मित्र राजेश कुमार द्वारा भेजा गया एक एस एम एस।

5 comments:

seema gupta said...

ओह!!! विचारणीय .....

regards

अजय कुमार said...

आंचल नही ,क्रेच तो है ।

mridula pradhan said...

wah ekdam gager men sager.

mridula pradhan said...

wah gager men sager.

सतीश सक्सेना said...

:-)
मगर वहां भी ममत्व यकीनन होगा !