Friday 12 March 2010

गुम हो गए दो नैन

-----
बात तो, कभी भी
कुछ भी ना थी,
मैं तो बस यूँ ही
मुस्कुराता रहा,
अपनों को खुश
रखने के लिए
अपने गम
छिपाता रहा।
-----
मेरे अन्दर झांकने वाले
गुम हो गए दो नैन,
कौन सुनेगा,किसको सुनाऊं
कैसे मिले अब चैन।

2 comments:

Apanatva said...

bahutgahraee walee baathai ye............
sunder rachana.............

divy karni rajpurohit said...

pasand aaya