Thursday 2 July 2009

एक से नो तक

समय--१२.३४.५६
तारीख--७.८.९
मतलब , १,२,३,४,५,६,७,८,और ९ एक साथ। ऐसा दुबारा हमारे जीवन में तो होने वाला नहीं। इसलिए उस दिन कुछ ना कुछ तो अलग से होना ही चाहिए। जिस से इस पल की याद हमारे दिलों में रहे। क्या होना चाहिए? आप भी सोचो हम भी सोचतें हैं। जब इतने सब सोचेंगें तो हर हाल में नया विचार आएगा ही।

1 comment:

Murari Pareek said...

अगर बात यादगार की है, तो ऐसा करतें हैं, अपना एक विशेष फोटो, विशेष मुद्रा मैं खिंचवा कर अपने सभी पहचान के ब्लोग्स पर दे देते हैं! और फिर उन फोटुओं को फोटो पैंट मैं या किसी दुसरे सॉफ्टवेर मैं एक साथ करके, एक गैजट बना कर अपने अपने ब्लॉग पर चिपका दो | टाइटल मैं ७.८.९ या फिर कुछ और टाइटल !!